Karj Se Chutkare Ke 21 Amal

Karj Se Chutkare Ke 21 Amal

Karj Se Chutkare Ke 21 Amal

Karj Se Chutkare Ke 21 Amal, “It is said that a man should be hungry but never take loan from anyone in life. It is the same thing to take a loan from someone and pledge your honor in the hands of that man. Because a person who takes a loan from someone has to kill his soul and his soul first. Neither can spread hands in front of anyone. But still sometimes such a bad time comes in life when a person has to take a loan even if he does not want to. Whether it is for the marriage of the daughter, whether for the education of children or for anything else that is necessary for her, it is very necessary but outside her status.

Karz Se Chutkare Ke Amal :

Keeping in mind the circumstances and compulsions, some such practices are being given here that Insha Allah will help you in repaying the debt that you want to repay with full truth but you are forced to repay it at the hands of circumstances. Are not able Allah is very much a prisoner, no matter what the crisis, whatever the problem, he helps the people always and in every situation. Karj Se Chutkare Ke 21 Amal.

  1. Read Allahumma Aafini Varjukani Vara Hamani every hundred times without naja fajr prayers every day. You will get relief from debt as well as get mercy.
  2. “Alif lam meem a liff lam meem taste alif lam meem ra kaf ha ya en taha ta sein meem yasin swaar haimim en sean kaf nunu” Read these letters after the prayer of Isha every day for twenty-nine times and repay your debt Please pray Allah will soon repay the debt.
  3. Mana Jaa Bill Hu-s-Nati-Fa-l-Hu Ashra Amsaliha and keep Min Haiyasu La Yahtisib a hundred times and keep it safely in a safe container, after forty times, by pressing forty coins. Then everyday, Naga take out a coin from them and put it in the well. In this way, do it for forty days. Your debt will be repaid.
  4. Read Surah Wakiya with Varud Sharifr for the full eight days, forty times after forty namaz and also pray for the repayment of your debt. The loan will be repaid.
  5. Innallaha yarjuku me, write the account of Yashao Bigarei daily on clean paper and fill it in three flour tablets and put it in a river or pond, whatever it is. In this way, do it for forty days. Your debt will be paid back.(Karj Se Chutkare Ke 21 Amal).
  6. Read Surah Alam Nasarah completely and then recite the prayer of Fajr and pray for the repayment of your debt.
  7. Allahu Latifun Bidbavihi Yerjuku May Yashao Wahhuval Kawiyul Aziz 0 Stand up at midnight on the night of Zuma and read the whole thousand times. When the reading is complete, pray for the repayment of your debt and pray in sitting and then pray in prostration. Then stand up and pray. Allaah will surely be fulfilled.
  8. After reciting the Namaz of Jumme, read Surah Mujjammil seven full times and then read Surah Yasin and pray every prayer. Dua will be read eleven times in total. Allahuma Akfini Bihalalika un Haramika and Agni Vifazlika Amman.
  9. ‘While reading Sivaka, a total of seven Mubeen will come and the Dua will be read on every Mubin. After this, go to prostrate and then pray for the debt to be repaid.
  10. Wake up for the entire two months with morning rest and do wuzu. Read two Raka’at Sunnah and then at the place where you are seated, read Dardushrif seven times while sitting. Read Surah Fatiha four times or Mujibu seven times. Please read again. When you have done this, then walk to the mosque for the prayer. Namaz read
    Then read the doodashrif. Keep in mind that talk to anyone during this time. If someone salutes, do just that.
  11. Or do not eat any kind of mass during that time by reading Badduh a thousand times daily and keeping the place with frankincense and starting it on the day of the Jummerat on ascending date and reading the prayer given below. Is paid. Al Ajil Al Ajil Al Ajil Assayat Assayat 0.
  12. Prepare Surah Kahf from Allah’s Fazl and keep it in a glass bottle and keep it nearby, to repay the debt. Trouble and poverty of a person also goes away.
  13. In case of failure to pay the loan, read Durdushreef thrice and Surah Kadr twenty-one times and then Duryudarif thrice again. Remember that while doing this experiment a person should put some water in a vessel in front of him and suppress it. After doing this, drink some water in that vessel and rub the remaining water on your mouth. Doing this way will pay off his debt.
  14. If you are in debt, after reading the prayer of prayers, read Surah Nasar forty times and before and after it. Don’t forget to read the bar as well. In this way, do it for forty days.
  15. Read Allahusamad for the whole hundred times and before and after it three times also read Dardushrif.
  16. Read the Surah Mujjammil at full time for forty days. Before that, you must also do Durdashreef seven times in this way for forty days.
  17. After the prayer of Vaju Isha for repayment of debt, the person lying under the open sky, read the Italkursi a hundred and seventy times and before that, must also read the Durdashreef the entire eleven-eleven times. Insha Allah the debt will be paid.
  18. Read Bismillahirrahmanirim once and then read the verse five full times from Aayat Sharif Kullihumma Malikalmuqi to Bigiari accounts. Keep in mind that in the first and last eleven times, you must also read Darud Sharif.
  19. To repay the debt, in the daily rising date of Jumrat, pay the intention of ‘Hajat’ by doubling the first day at the time of gesture, after the prayer of prayer, and then after that read the whole of Baruad Sharif a hundred times and then or Mannanu Jal Ihsani Kadam Amma Kullal Khalaika Minahu or Mannannu 0. Read this verse one hundred sixty-nine times. After doing so, do it in the same way, but do it for forty days without being angry and then offer the Namaz. Read Darudashreef one hundred seventy eight times. Pray in prayer for the repayment of your debt.
  20. If there is no hope of repayment of the loan, “or Manannanu Jal Ihsani Kadam Amma Kullal Khalaika Minah or Manannanu.” Read this stipend after standing for fourteen days three hundred times after Isha’s prayers. Then go in prostration and pray for the repayment of your debt. Insha Allah, your debt will be paid back. (Karj Se Chutkare Ke 21 Amal).
  21. “Bismillahirrahmanirahim 0 Allah Humma Salli Ala Sayyidina Muhammad Din Ibadika & Rasulika & Allal Mominina Vall Momnati & Alal Muslimeen Vall Musilmati In the month of the moon, Nauchandi will be washed or read Naga. Your debt will be repaid by the grace of Allah.
  22. Allahuma Aqfini Bihalalika An Haramika and
    Agnibi Wifjalikah Amman Sivaka Read this dua after the Maghrib Kou Namaz two hundred times and must read Darud Sharif thrice in the first and last.

Karj se Mukti Ki Dua In Hindi:

कहते है कि आदमी भूखा रह ले पर जीवन में कभी किसी से कर्ज न ले। किसी से कर्ज लेना और, अपनी इज्जत को उस आदमी के हाथों में गिरवी रखना एक ही बात है। क्योंकि जो व्यक्ति किसी से कर्ज लेता है तो उसे सबसे पहले अपनी आत्मा और इमान को मारना पड़ता है। न किसी के सामने हाथ फैला सकता है। लेकिन फिर भी कभी-कभी जीवन में ऐसा बुरा वक्त भी आता है जब न चाहते हुए भी व्यक्ति को कर्ज लेना पड़ता है। चाहे बेटी के विवाह के लिए, चाहे बच्चों की पढ़ाई के लिए या फिर अन्य किसी भी उस चीज के लिए जो उसके लिए है तो बहुत ही आवश्यक, लेकिन है उसकी हैसियत से बाहर।

ऐसे ही हालात और मजबूरियों को ध्यान में रखते हुए यहां कुछ ऐसे अमल दिए जा रहे है जो इंशा अल्लाह आपके लिए हुए उस कर्ज को चुकाने में आपकी मदद करेंगे जिसे आप पूरी सच्चाई के साथ चुकाना तो चाहते हैं लेकिन हालात के हाथों मजबूर होकर उन्हें चुका नहीं पा रहें हैं। अल्लाह बहुत ही कारसाज है, चाहे कैसा ही संकट हो, कैसी ही परेशानी हो वह आपने बंदों की मदद हमेशा और हर हालात में करता है।

Karj Se Chutkara pane ka wazifa :

  • अल्लाहुम्मा आफिनी वर्जुकनी वर हमनी को हर रोज बिना नागा फज्र की नमाज के बाद पूरे सौ बार पढ़ें। आपको कर्ज से निजात तो मिलेगी ही साथ ही रहमत की प्राप्ति भी होगी।
  • “अलिफ लाम मीम अ लिफ़ लाम मीम स्वाद अलिफ़ लाम मीम रा काफ़ हा या एन ताहा ता सीन मीम यासीन स्वाद हामीम हामीम एन सीन काफ़ नूनू” इन अक्षरों को ईशा की नमाज़ के बाद रोज बिना नागा उन्नतीस बार पढ़े और अपने कर्ज के चुकने की दुआ करें। अल्लाह तआला कर्ज जल्द ही चुकता हो जायेगा।
  • मन जाआ बिल ह-स-नति-फ-ल-हु अशरा अमसालिहा को और सौ ही बार मिन हयसु ला यहतसिब को पढ़ कर चालीस बार चालीस सिक्‍कों पर दम करके किसी सुरक्षित पात्र में सुरक्षित रूप से अपने पास रख लें। फिर रोज बिना नागा उनमें से एक सिक्का निकाल कर कुएं में डालें। इस प्रकार पूरे चालीस दिनों तक करें। आपके कर्ज की अदाइगी का इन्तजाम हो जाएगा।
  • वरूद शरीफ्र के साथ सूरह वाकिया को पूरे आठ दिनों तक, चालीस बार चालीस नमाजों के बाद पढ़ें और साथ अपने कर्ज के अदा होने की भी दुआ करें। कर्ज अदा हो ज़ाएगा।
  • इन्नल्लाहा यर्जुकु मयं यशाओ बिगयरि हिसाब को साफ कागज पर रोज लिख कर तीन आटे की गोलियों में भर कर पांस ही किसी की नदी या तालाब जो कुछ भी हो, में डाल दें। इस प्रकार पूरे चालीस दिनों तक करें। आपका कर्ज अदा होने का इन्तजाम हो जाएगा।
  • सूरह अलम नशरह को पूरी पढ़ें और फिर फज्र की नमाज को पढ़नें के बाद अपने कर्ज की अदायगी के लिए दुआ करें।
  • अल्लाहु लतीफुन बिड़बाविहि यर्जुकु मयं यशाओ वहुवल कविय्युल अज़ीज़0 को जुमे की रात के वक्‍त आधी रात को खड़े हो कर पूरे हजार बार पढ़ें। जब पढ़ना पूरा हो जाए तो अपने कर्ज की अदायगी की दुआ करें और बैठ कर दुआ करें और फिर सजदे में दुआ करें। फिर खड़े हो कर दुआ करें। अल्लाह तआला दुआ जरूर पूरी होगी।
  • जुमे की नमाज को पढ़ने क बाद पूरे सात बार सूरह मुज़्जम्मिल को पढ़ें और फिर सूरह यासीन को पढ़ें और हर मुबीन ठहर कर दुआ करें। दुआ कुल ग्यारह बार पढी जाएगी। अल्लाहुमा अकफ़िनी बिहलालिका अन हरामिका व अगनी विफ़ज़लिका अम्मन।
  • ‘सिवाका पढ़ते वक्‍त कुल सात मुबीन आएंगी और हर मुबीन पर रुक कर दुआ पढ़ी जाएगी। इसके बाद सजदें में चले जाएं और फिर कर्ज की अदा होने की दुआ भी करें। (Karj Se Chutkare Ke 21 Amal).
  • पुरे दो महीनो तक सुबह की आजान के साथ जागें और वुजू करें। दो रकअत सुन्नत पढ़ें और फिर उस जगह पर जहां आप बैठे हैं, बैठे-बैठे ही सात बार दरूदशरीफ़ पढ़ें। सात बार ही सूरह फातिहा को भ्रौर चार बार या मुजीबु को पढ़ें। फिर से दरूदशरीफ़ पढ़ें। जब यह कर लें तो फर्ज कौ नमाज के लिए मस्जिद को चल दें। नमाज पढ़
    फिर दरूदशरीफ़ पढ़ें। ध्यान रखें कि इस दौरान किसी से भी बात | कोई सलाम करे तो बस उतना ही करें।
  • या बददूह को रोजाना एक हजार बार पढ़ने से और उस वक्‍त स्थान को लोबान से महकाए रखने से और इसे चढ़ती तारीख में जुमेरात के रोज शुरू करने से उस दौरान किसी भी प्रकार का मास न खाएं और नीचे दी गई इबादत को पढ़ने से व्यक्ति का कर्ज चुकता है। अल अजिल अल अजिल अल अजिल अस्साअत अस्साअत0।
  • अल्लाह के फज्ल से सूरः कहफ़ का यन्त्र बना कर कांच की किसी बोतल में बंद करके पास में रखने से कर्ज की अदायगी का इंतजाम हो जाता है। व्यक्ति की तंगहाली और गरीबी भी दूर होती है।
  • कर्ज अदा न कर पाने की सूरत में तीन बार दरूदशरीफ़ और इक्कीस बार सूरह कद्र और फिर दोबारा तीन ही बार दरूदशरीफ़ को पढ़े। याद रहे कि इस प्रयोग को करते हुए व्यक्ति अपने सामने एक पात्र में कुछ जल रख ले और उस पर दम करे। इतना करने के बाद उस पात्र में कुछ पानी पी लें और बचे हुए पानी को अपने मुह पर मल लें। इस प्रकार करने से उसका कर्ज अदा हो जाएगा।
  • कर्ज से दबे हों तो फर्ज की नमाज पढ़नें के बाद सूरह नसर चालीस बार पढ़ें और उसके पहले व बाद में दरूदशरीफ़ | बार भी पढ़ना न भूलें। इस प्रकार पूरे चालीस दिनों तक करें।
  • अल्लाहुस्समद को पूरे सौ बार पढ़ें और उसके पहले व बाद तीन बार दरूदशरीफ़ को भी पढ़ें।
  • निश्चित वक्‍त पर पूरे चालीस दिनों तक सूरह मुज़्जम्मिल को पढ़े। उसके पहले व आखिर में सात-सात बार दरूदशरीफ़ को भी अवश्य इस प्रकार पूरे चालीस दिनों तक करें।
  • कर्ज की अदायगी के लिए वुजू ईशा की नमाज के बाद व्यक्ति खुले आकाश के नीचे लेट कर आयतलकुर्सी को पुरे एक सौ सत्तर बार पढे और उसके पहले व आखिर में पूरे ग्यारह-ग्यारह बार दरूदशरीफ़ को भी अवश्य ही पढ़े। इन्शा अल्लाह कर्ज अदा हो जाएगा।
  • बिस्मिल्लाहिरहमानिर्हीम को एक बार पढ़ें और फिर उसके बाद आयत शरीफ़ कुल्लिहुम्मा मालिकलमुल्कि से लेकर बिगयरि हिसाब तक पूरे पांच बार पढ़ें। ध्यान रहे कि इसके पहले और आखोर में ग्यारह-ग्यारह बार दरूद शरीफ़ को भी अवश्य ही पढ़ें।
  • कर्ज की अदायगी के लिए जुमेरात के रोज चढ़ती तारीख में ‘फर्ज की नमाज के बाद इशकार के वक्‍त पहले दिन गुस्ल करके दोगुना नफिल कजाए हाजात की नीयत से अदा करें और फिर इसके पश्चात्‌ पूरे एक सौ बार बरूद शरीफ़ को पढ़ें और फिर या मन्‍नानू जल इहसानि कद अम्मा कुल्लल खलाइका मिनहु या मन्‍नानु०। इस आयत को एक सौ उन्सठ बार पढ़ें। इतना कर लेने के बाद इसी प्रकार करें, लेकिन गुस्ल किए बिना ही पूरे चालीस दिनों तक करें और फिर गाना नमाज अदा करें। दरूदशरीफ़ को पूरे एक सौ अठ्ठत्तर बार पढ़ें। सजदे में जा कर अपने कर्ज की अदायगी के लिए दुआ करें।
  • कर्ज की अदायगी का कोई उम्मीद न दीखती हो तो “या मनन्‍नानू जल इहसानि कद अम्मा कुल्लल खलाइका मिनह्‌ या मनन्‍नानु।” इस वजीफे को पूरे चौदह दिनों तक खड़े हो कर तीन सौ बार इशा की नमाज के बाद पढ़ें। फिर सजदे में जा कर अपने कर्ज की अदायगी के लिए दुआ करे। इन्शा अल्लाह आपके कर्ज कौ अदायगी का इन्तजाम हो जाएगा।
  • “बिस्मिल्लाहिरहमानिर॑हीम0 अल्ला हुम्मा सल्लि अला सय्येदिना मुहम्मदिन इबादिका व रसूलिका व अलल मोमिनीना वल मोमनाती व अलल मुसलमीन वल मुसिलमाती चाँद के महीने में नौचन्दी धो जाएगा ना नागा पढ़ें। अल्लाह के करम से आपके कर्ज अदा हो जायेगा।
  • अल्लाहुमा अकफ़िनी बिहलालिका अन हरामिका व अगनिबी विफ़जलिक़ा अम्मन सिवाका इस दुआ को मगरिब कौ नमाज के बाद पूरे दो सौ बार पढ़ें और पहले व आखिरी में दरूद शरीफ को तीन बार अवश्य ही पढ़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *